पोस्ट

मई, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

प्रेम फलित होता ही तब जब जीत कर रह जाए हारा

प्रेम के वशीभूत होकर लिखता जा रहा है वह निरंतर, है घिरा सब ओर से भीड़ भाव और राग से, खोता जा रहा नित् ही पर हर क्षण अजर एकांत में: तुम रुको क्षण भर देखो दीखता क्या तुम्हें पन्नों पर! ओझल होती सूर्य-किरणें या चाँद की चंचल पोथी पर! मूँद लो उजले नयन यह अनुराग-चक्षु खुल जाने को है, प्रेम की नौका लिए हे वंशी ख़ुद कृष्ण फिर आने को है; ज्वार उठेगा नभ में हो ज्वलंत घट घट पसरे चिर आनंद में, गुंजायमान होंगे वंदन गीत इस अमिट भाव के अभिनन्दन में: स्पर्श करना लाँघकर तुम सारी सीमाएँ देह पर की, याद रखना किंतु तुम यह है होने वाला अंतिम ध्येय, न रहोगी फिर कहीं तुम जग ढूँढता रह जाए सारा, प्रेम फलित होता ही तब जब जीत कर रह जाए हारा।                              - कमलेश

दुनिया की जरूरतें

आया तो उड़कर एक ही पत्थर था, लेकिन उसने दो आंखों में अँधेरा और साथ की दस नज़रों में खून भर दिया। रास्ते तो लगे ही थे दस साल की पीठ पर टंगे बैग की हिफाज़त में, लेकिन अभी अभी इंसान से जानवर बने हाथों ने: उन रास्तों की ज़िंदगी और दस साल की साँसों का दम घोंट दिया। बहुत सोचा था एक दिल ने कि ख़्वाहिशें बाद उसके कौन पूरी करेगा! लेकिन उसकी आवाज़ और आँखों की चमक नहीं जा पाई दहलीज तक: चार आँखों के ख़्वाबों ने, दुनिया से दो पलकों के दिये बुझा दिए। मैं रुक जाता हूँ दो नन्ही नज़रों के सवालों पर, मैं सहम जाया करता हूँ हरियाली से आती आवाज़ के कारण, दुनिया की दो ज़रूरतें ही बाकी सारी ख़्वाहिशों का ज़रिया है यह एक मित्र की वह पंक्ति पढ़कर जाना: जिसमें लिखा है कि "शिक्षित बच्चे और पेड़ इस दुनिया की सबसे बड़ी ज़रूरत है।"                                               - कमलेश शुक्रिया दादा (नागेश्वर पांचाल)❤❤

संवाद – बात से साथ का सफ़र

इमेज
       इस दुनिया को कान की ज़रूरत है          लेकिन हर कोई बस बोलना चाहता है... यह कथन दो तरीकों से किस तरह देखा जा सकता है, बस उस देखने के तरीके की प्रक्रिया का नाम संवाद है. हर किसी के पास इतनी कहानियाँ है कि लिखते लिखते सारे पन्ने भरे जा सकते हैं और हर कोई उतना ही उत्सुक और आतुर है कि किसी और की कहानी सुनने के लिए उसके पास धैर्य नहीं है. ज़िन्दगी की राहों से पनपती कहानियाँ और उनसे जन्म लेते हुए हर पल के किस्से और किस्सों से उपजा खालीपन, मानसिक असंतुलन इतना बढ़ जाता है कि इंसान भूल जाता है उसे जीना किस तरह है!       संवाद की प्रक्रिया में ठहराव और स्थिरता है ज़िन्दगी की रफ़्तार को समझने के लिए वक़्त प्रदान करती हुई. कानों और दिमाग को कितने आराम की ज़रूरत है इस बात का ख़याल शायद उम्र भर किसी को नहीं आता क्योंकि हर कोई, बस रोज़ भागने वाले हाथ और पैर को आराम देना चाहता है. संवाद की शुरुआत जिस मौन के साथ हुई उसने मुझे इस बात का सन्देश दिया कि अभी मेरे पास काफी वक़्त है जो मैं अपने सवालों के साथ बिता सकता हूँ और उनसे ज्यादा अच्छी तरह से वाकिफ़ हो सकता हूँ. बढ़ते दबाव और तनाव के बीच भी

तुम्हारे अधर

इमेज
Source - artist.com बारिशें खंगाल रही हैं धरती की कोख़ आंधियाँ पलट रही है तमाम वस्त्र, लोग भूलते जा रहे हैं  जो कुछ देखा, किया और सीखा उन्होंने, रातें छुपी हुई हैं दीवारों के पीछे दिन ढूँढ रहा है पनाह एक गड्डे में; आँखें चीख रही हैं मौन  हाथ लिखते जा रहे हैं भविष्य, पैरों को भुला गई हैं सारी राहें, थकान भर चुकी हैं साँसों में। तुम आती हो तब जीवन के संताप को हरने, मैं हो जाता हूँ ग़ुम तुम्हारे हाथों की परिधि में। मिट जाती हैं व्यंजनाएँ तमाम एक प्रेम से सरोबार आलिंगन में, खुलते हैं इन्द्रियों के पैबंद चटकने लगते हैं दिनो-रात। प्रकृति के इस पुनर्जीवन पर सृष्टि-सर्जन के गीतों को गाते तुम्हारे सुकोमल गुलाबी अधर; मैं रख देता हूँ  अपने मुख को उन पर, पढ़ने को वे तमाम रतजगे विषाद के दिनों से संजोये हुए: जो कहने आयीं तुम अपने अधरों पर रखकर।                                 - कमलेश

अनजानी सी तुम

यूँ ही घूमते हुए किसी पार्क में, जब देखता हूँ वहाँ खेल रहे बच्चों को, तो मेरा बचपन हिलोरें मारने लगता है मेरे भीतर। कुछ मुस्कुराहटें जो अनजान लोगों के चेहरे पर देखता हूँ, तो उनसे न जाने कितने समय पुराना एक जुड़ाव सा महसूस होता है मुझमें। तुम्हें मैंने कभी भी देखा नहीं, तुम्हारी आवाज़ सुनाई देती है किसी सिक्के की खनखनाहट सी मुझे: मैं मिलूँगा तुमसे नहीं जानता कि कब! हम बैठकर करेंगे बातें और बाँट लेंगे दुनिया में बढ़ता खालीपन, मुझे इंतज़ार करना पसंद है भागती राहों में उम्मीद है; तुम्हें भी इंतज़ार पसंद आएगा।                                    - कमलेश

जब तुम्हारी याद आती है...

भूख,प्यास, भावनाएँ, सब भूल जाता हूँ, और नींद, जागना, सपने, ख्यालों को भी भूल जाता हूँ, जब मुझे तुम्हारी याद आती है... साँसे रहती हैं वहीं की वहीं, कदम ठहर जाते हैं सड़कों पर चलते हुए, रूक जाता हूँ मैं ख़ुद को लिखते हुए मौन हो जाता हूँ किसी गीत को गाते, जब तुम्हारी याद आती है मुझे... निकलता हूँ जब अपना चोला उतारकर जंगल की राह पर, देखता हूँ उसके दरख्त और सब्ज़ जमीं को तब पंछियों के चहचहाने में ढलते सूरज की रोशनी में, एक अक्स दिखाई पड़ता है वहाँ; जब मुझे तुम्हारी याद आती है... शाम के ढलते साये में जब टिका लेता हूँ अपनी पीठ उम्मीदों के घर की छत पर बनी मुंडेर से, टिमटिमाता है रात का पहला तारा आसमान के किसी कोने में, निकल आता है चाँद अचानक से, और बदल जाता है मौसम मेरे हालातों का जब तुम्हारी याद आती है मुझे...                                       - कमलेश